ज्योतिष

Based on Systems Approach to Vedic Astrology

Transit of Lunar Nodes (राहू केतू की चाल)

राहू और केतू मई १५, २०१० से लेकर अगस्त के तीसरे सप्ताह तक धीमी गति से १७ अंश पास रहेंगे. राहू और केतु सभी लग्नों के लिए नुक्सानदायक ग्रह माने जाते हैं. इस चाल का विपरीत प्रभाव उन सभी लोगों (और देशों) पर पड़ेगा जिनकी जन्मपत्री में लग्न राशि १७ अंश से ५ अंश के अंदर पड़ेगी. अर्थात वो सभी जन्मपत्रियां जिनमे लग्न का अंश १३ अंश और २२ अंश के बीच होगा.लग्न का अंश १७ अंश से जितना नज़दीक होगा उतना ही बुरा प्रभाव भी अधिक होगा.


( अपना लग्न और लग्न के अंश यहाँ से प्राप्त करें
   http://www.astroquery.com/services/ascendantonline.html )

हर पत्री अलग होती है अतः हर व्यक्ति पर अलग प्रभाव होगा लेकिन इतना कहा जा सकता है की अगर आपकी पत्री का लग्न १३ और २२ अंश के बीच में हुआ तो जीवन के कई क्षेत्रों में आप तनाव और मुश्किलें महसूस कर सकते हैं. अगर बुरे ग्रहों की दशा/अंतर्दशा चल रही हो तो बुरा प्रभाव विशेष रूप से दिखाई देगा. उसी तरह यदि अच्छे ग्रहों की दशा/अंतर्दशा में बुरा प्रभाव कम या नहीं के रूप में दिखाई देगा.

Translation:
Rahu and Ketu will be transiting around 17 degrees from May 15th to third week of August. Rahu/Ketu are malefic planets for all ascendants. This will have bad influence on all those whose ascendant's rising degree falls within 5 degrees of 17 degree. i.e., Those with rising degree of ascendant within 13 to 22 degrees. Closer it is to 17 degrees, worse the influence.

(Find your ascendant and rising degree at
http://www.astroquery.com/services/ascendantonline.html)

All charts are different so the influence will be different. But it can be safely said that affected people will face stress and problems in different areas of life. If you are running a main/sub period of weak planets bad influence shall be enhanced and similarly if you are running main/sub period of strong planets, bad effect will be less.

3 comments:

जयराम “विप्लव” { jayram"viplav" } June 7, 2010 at 5:24 AM  

" बाज़ार के बिस्तर पर स्खलित ज्ञान कभी क्रांति का जनक नहीं हो सकता "

हिंदी चिट्ठाकारी की सरस और रहस्यमई दुनिया में राज-समाज और जन की आवाज "जनोक्ति.कॉम "आपके इस सुन्दर चिट्ठे का स्वागत करता है . चिट्ठे की सार्थकता को बनाये रखें . अपने राजनैतिक , सामाजिक , आर्थिक , सांस्कृतिक और मीडिया से जुडे आलेख , कविता , कहानियां , व्यंग आदि जनोक्ति पर पोस्ट करने के लिए नीचे दिए गये लिंक पर जाकर रजिस्टर करें . http://www.janokti.com/wp-login.php?action=register,
जनोक्ति.कॉम www.janokti.com एक ऐसा हिंदी वेब पोर्टल है जो राज और समाज से जुडे विषयों पर जनपक्ष को पाठकों के सामने लाता है . हमारा प्रयास रोजाना 400 नये लोगों तक पहुँच रहा है . रोजाना नये-पुराने पाठकों की संख्या डेढ़ से दो हजार के बीच रहती है . 10 हजार के आस-पास पन्ने पढ़े जाते हैं . आप भी अपने कलम को अपना हथियार बनाइए और शामिल हो जाइए जनोक्ति परिवार में !

अजय कुमार June 18, 2010 at 11:54 PM  

हिंदी ब्लाग लेखन के लिए स्वागत और बधाई
कृपया अन्य ब्लॉगों को भी पढें और अपनी बहुमूल्य टिप्पणियां देनें का कष्ट करें

Pradeep Kumar October 20, 2010 at 6:12 AM  

raajeev ji,
blog to sachmuch khazaanaa hai. darasal meri bhi jyotish me dilchaspi hai aur main isko bhi ek science hi maantaa hoon. khair yahaan mujhe kuchh nai jaankaariyaan mil sakengi . dhanyavad

Post a Comment

About this blog

इस ब्लॉग पर आप आजकल और निकट भविष्य में होने वाली ग्रहों की चाल और उसके प्रभाव के बारे में जानकारी पाएंगे. उसके अतिरिक्त वैदिक ज्योतिष पर आधारित लेख भी प्रकाशित किये जायेंगे.
This blog will have updates about upcoming planetary transits and posts about Systems Approach to Vedic Astrology.


Followers