ज्योतिष

Based on Systems Approach to Vedic Astrology

Transit of Rahu and Ketu in 2013: March - June

Rahu and Ketu (Lunar nodes) are going to station at 23 and 22 degrees in Libra and Aries from Middle of March 2013 to third week of June 2013. This would mean stress in various areas for those who have weak planets in odd signs and/or have rising degree of their ascendant between 17 and 27 degrees. Closer the degree to 22 degrees, more the stress.
You can find your ascendant and it's rising degree here : http://www.astroquery.com/services/ascendantonline.html

Saturn's transit in Libra

Saturn is entering it's sign of exaltation,  Libra on Nov 15, 2011. Here is the impact on various ascending signs:
http://yournetastrologer.com/saturn_in_libra.htm
 You can find your ascendant here:
http://www.astroquery.com/services/ascendantonline.html

Rahu/Ketu transits

Lunar nodes (also called Rahu and Ketu) will be stationed at 20 degrees from now to end of December 2011. Anybody with rising degree within +/- 2 degrees of 20 degrees or a natal planet afflicted within +/- 2 degrees of by Lunar nodes are going to face tremendous stress in different areas of life! Some of us might already be feeling the effect.

Rahu Ketu transits (राहू केतू की चाल) May-July 2011

राहू और केतू मई जून और जुलाई २०११ में धीमी गति से २९ अंश  पर रहेंगे. राहू और केतु सभी लग्नों के लिए नुक्सानदायक ग्रह माने जाते हैं. इस चाल का विपरीत प्रभाव उन सभी लोगों (और देशों) पर पड़ेगा जिनकी जन्मपत्री में लग्न का अंश २४ अंश से ३० अंश या ० अंश से ४ अंश तक के बीच होगा.लग्न का अंश २९ अंश से जितना नज़दीक होगा उतना ही बुरा प्रभाव भी अधिक होगा.


( अपना लग्न और लग्न के अंश यहाँ से प्राप्त करें
   http://www.astroquery.com/services/ascendantonline.html )

हर पत्री अलग होती है अतः हर व्यक्ति पर अलग प्रभाव होगा लेकिन इतना कहा जा सकता है की अगर आपकी पत्री में लग्नांश ऊपर बयाये अंशों में हुए तो जीवन के कई क्षेत्रों में आप तनाव और मुश्किलें महसूस कर सकते हैं. अगर बुरे ग्रहों की दशा/अंतर्दशा चल रही हो तो बुरा प्रभाव विशेष रूप से दिखाई देगा. उसी तरह यदि अच्छे ग्रहों की दशा/अंतर्दशा में बुरा प्रभाव कम या नहीं के रूप में दिखाई देगा. उसी प्रकार यदि कुंडली में कोई कमज़ोर ग्रह २९ अंश के आसपास हो और राहू/केतु उस ग्रह के ऊपर से गुजर रहें हो या उस ग्रह पर दृष्टी डाल रहे हों तो उस ग्रह से सम्बंधित चीजों पर बुरा प्रभाव डालेंगे ही.

Translation:
Rahu and Ketu will be transiting at 29 degrees During the months of May, June and July 2011. Rahu/Ketu are malefic planets for all ascendants. This will have bad influence on all those whose ascendant's rising degree falls within 24 to 30 degrees or 0 to 4 degrees. Closer it is to 29 degrees, worse the influence.

(Find your ascendant and rising degree at
http://www.astroquery.com/services/ascendantonline.html)

All charts are different so the influence will be different. But it can be safely said that affected people will face stress and problems in different areas of life. If you are running a main/sub period of weak planets bad influence shall be enhanced and similarly if you are running main/sub period of strong planets, bad effect will be less. Similarly if any planet in natal chart is at 29 degrees and Rahu/Ketu are transiting over that planet or are having an aspect on that planet the general and particular significations of that planet will suffer.

Rahu Ketu transits (राहू केतू की चाल)

राहू और केतू नवम्बर १५, २०१० से लेकर फरवरी ४, २०११ तक धीमी गति से ८ अंश  पर रहेंगे. राहू और केतु सभी लग्नों के लिए नुक्सानदायक ग्रह माने जाते हैं. इस चाल का विपरीत प्रभाव उन सभी लोगों (और देशों) पर पड़ेगा जिनकी जन्मपत्री में लग्न राशि ८ अंश से ५ अंश के अंदर पड़ेगी. अर्थात वो सभी जन्मपत्रियां जिनमे लग्न का अंश २ अंश और १३ अंश के बीच होगा.लग्न का अंश ७ अंश से जितना नज़दीक होगा उतना ही बुरा प्रभाव भी अधिक होगा.


( अपना लग्न और लग्न के अंश यहाँ से प्राप्त करें
   http://www.astroquery.com/services/ascendantonline.html )

हर पत्री अलग होती है अतः हर व्यक्ति पर अलग प्रभाव होगा लेकिन इतना कहा जा सकता है की अगर आपकी पत्री का लग्न २ और १३ अंश के बीच में हुआ तो जीवन के कई क्षेत्रों में आप तनाव और मुश्किलें महसूस कर सकते हैं. अगर बुरे ग्रहों की दशा/अंतर्दशा चल रही हो तो बुरा प्रभाव विशेष रूप से दिखाई देगा. उसी तरह यदि अच्छे ग्रहों की दशा/अंतर्दशा में बुरा प्रभाव कम या नहीं के रूप में दिखाई देगा. उसी प्रकार यदि कुंडली में कोई कमज़ोर ग्रह ८ अंश के आसपास हो और राहू/केतु उस ग्रह के ऊपर से गुजर रहें हो या उस ग्रह पर दृष्टी डाल रहे हों तो उस ग्रह से सम्बंधित चीजों पर बुरा प्रभाव डालेंगे ही.

Translation:
Rahu and Ketu will be transiting at 8 degrees from November 15th to February  2011. Rahu/Ketu are malefic planets for all ascendants. This will have bad influence on all those whose ascendant's rising degree falls within 5 degrees of  8 degree. i.e., Those with rising degree of ascendant within 2 to 13 degrees. Closer it is to 8 degrees, worse the influence.

(Find your ascendant and rising degree at
http://www.astroquery.com/services/ascendantonline.html)

All charts are different so the influence will be different. But it can be safely said that affected people will face stress and problems in different areas of life. If you are running a main/sub period of weak planets bad influence shall be enhanced and similarly if you are running main/sub period of strong planets, bad effect will be less. Similarly if any planet in natal chart is at 8 degrees and Rahu/Ketu are transiting over that planet or are having an aspect on that planet the general and particular significations of that planet will suffer.

शुक्र का तुला राशि में प्रवेश.(Venus transit in Libra)

शुक्र  ग्रह अपनी मूलत्रिकोण राशि तुला में १ सितम्बर २०१० को प्रवेश करेगा और वहाँ १ जनवरी २०११ तक रहेगा. प्रोफ़ेसर वी. के चौधरी जी ने, विभिन्न लग्नों में पैदा हुए व्यक्तियों पर पड़ने वाले प्रभाव का विश्लेषण किया है जो आप उनकी वेबसाइट पर देख सकते हैं.

( अपना लग्न और लग्न के अंश यहाँ से प्राप्त करें
   http://www.astroquery.com/services/ascendantonline.html
 
Translation:
Venus will enter its mool trikona sign on 1st September, 2010, and will stay there up to 1st January, 2011. Professor V.K.Choudhry has done analysis on what the impact would be for different ascendants.  You can find it on his website:


(Find your ascendant and rising degree at
http://www.astroquery.com/services/ascendantonline.html

Transit of Lunar Nodes (राहू केतू की चाल)

राहू और केतू मई १५, २०१० से लेकर अगस्त के तीसरे सप्ताह तक धीमी गति से १७ अंश पास रहेंगे. राहू और केतु सभी लग्नों के लिए नुक्सानदायक ग्रह माने जाते हैं. इस चाल का विपरीत प्रभाव उन सभी लोगों (और देशों) पर पड़ेगा जिनकी जन्मपत्री में लग्न राशि १७ अंश से ५ अंश के अंदर पड़ेगी. अर्थात वो सभी जन्मपत्रियां जिनमे लग्न का अंश १३ अंश और २२ अंश के बीच होगा.लग्न का अंश १७ अंश से जितना नज़दीक होगा उतना ही बुरा प्रभाव भी अधिक होगा.


( अपना लग्न और लग्न के अंश यहाँ से प्राप्त करें
   http://www.astroquery.com/services/ascendantonline.html )

हर पत्री अलग होती है अतः हर व्यक्ति पर अलग प्रभाव होगा लेकिन इतना कहा जा सकता है की अगर आपकी पत्री का लग्न १३ और २२ अंश के बीच में हुआ तो जीवन के कई क्षेत्रों में आप तनाव और मुश्किलें महसूस कर सकते हैं. अगर बुरे ग्रहों की दशा/अंतर्दशा चल रही हो तो बुरा प्रभाव विशेष रूप से दिखाई देगा. उसी तरह यदि अच्छे ग्रहों की दशा/अंतर्दशा में बुरा प्रभाव कम या नहीं के रूप में दिखाई देगा.

Translation:
Rahu and Ketu will be transiting around 17 degrees from May 15th to third week of August. Rahu/Ketu are malefic planets for all ascendants. This will have bad influence on all those whose ascendant's rising degree falls within 5 degrees of 17 degree. i.e., Those with rising degree of ascendant within 13 to 22 degrees. Closer it is to 17 degrees, worse the influence.

(Find your ascendant and rising degree at
http://www.astroquery.com/services/ascendantonline.html)

All charts are different so the influence will be different. But it can be safely said that affected people will face stress and problems in different areas of life. If you are running a main/sub period of weak planets bad influence shall be enhanced and similarly if you are running main/sub period of strong planets, bad effect will be less.

About this blog

इस ब्लॉग पर आप आजकल और निकट भविष्य में होने वाली ग्रहों की चाल और उसके प्रभाव के बारे में जानकारी पाएंगे. उसके अतिरिक्त वैदिक ज्योतिष पर आधारित लेख भी प्रकाशित किये जायेंगे.
This blog will have updates about upcoming planetary transits and posts about Systems Approach to Vedic Astrology.


Followers